1 Sajinn

Essay On Cow In Nepali Language

गाय एक प्रसिद्ध और महत्वपूर्ण घरेलू जानवर है। यह भारत में "माता" के रूप में जाना जाता है। बच्चों को आम तौर पर उनकी कक्षा या परीक्षा में गाय पर निबंध लिखने को दिया जाता हैं। उसी के सन्दर्भ में हम यहाँ पर विभिन्न प्रकार के संछिप्त व व्रिस्तृत गाय पर निबंध उपलब्ध करा रहे है जिसका इस्तेमाल आप अपने बच्चो का होमवर्क करने और उनके लिखने की शक्ति को बढ़ाने में कर सकते हैं|

गाय पर निबंध (काऊ एस्से)

Get here essay on cow in Hindi language in different words limit like 100, 150, 200, 250, 300, and 400 words.

गाय पर निबंध 1 (100 शब्द)

गाय हमारी माता है| यह एक महत्वपूर्ण घरेलू जानवर है। यह हमें स्वस्थ और पौष्टिक दूध देती है। यह एक पालतू जानवर है। यह जंगली जानवर नहीं है और दुनिया के कई हिस्सों में पाया जाता है। भारतीय लोग इसे एक माँ की तरह सम्मान देतें हैं। भारत में गाय प्राचीन समय से ही देवी के रूप में पूजी जाती है| भारत में लोग इसे अपने घरों में धन लक्ष्मी के रूप में लातें है। गाय सभी जानवरों में सब पवित्र पशु के रूप में माना जाता है। यह विभिन्न आकार, रंग व कई किस्मों में पाया जाता है|

गाय पर निबंध 2 (150 शब्द)

गाय बहुत ही उपयोगी जानवर है और हमें दूध देती है। गाय का दूध पूर्ण व पौष्टिक भोजन के रूप में जाना जाता है। गाय एक घरेलू और धार्मिक जानवर है। भारत में गाय की पूजा हिन्दू धर्म में एक रिवाज है। गाय का दूध पूजा, अभिषेक और अन्य पवित्र कार्यो में प्रयोग किया जाता है। हिंदू धर्म में यह "गौ माता" कही जाती है और माँ का स्थान रखती है| यह बड़ा शरीर, चार पैर, एक लंबी पूंछ, दो सींग, दो कान, दो आंख, एक बड़ी नाक, एक बड़ा मुँह और एक सिर वाला जानवर है। यह देश के लगभग हर क्षेत्र में पाया जाता है।

यह अलग आकृति और आकार में पाया जाता है। हमारे देश में यह छोटे कद के होते है जबकि कुछ देशों में यह बड़े कद काठी के होते है। इसकी पीठ लम्बी और चौड़ी होती है। हमें गाय की अच्छी तरह से देखभाल करनी चाहिए और उसे अच्छा भोजन और साफ पानी देनी चाहिए। यह हरी घास, भोजन, अनाज और अन्य चीजें खाती है। पहले वह खाना अच्छी तरह से चबाती है और धीरे धीरे उसे पेट में निगल जाती है|

गाय पर निबंध 3 (200 शब्द)

गाय एक घरेलू जानवर है। यह हिंदू धर्म के लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। यह हिंदू धर्म के लोगों का सबसे महत्वपूर्ण व पालतू जानवर है। यह एक मादा जानवर है जो सुबह और शाम दो बार दूध देती है| कुछ गाय अपनी आहार और क्षमता के अनुसार दिन में तीन बार दूध देती हैं। गाय एक माँ के रूप में हिंदू लोगों द्वारा माना जाता है और गऊ माता के नाम से बुलाया जाता है। हिन्दू लोग गाय का बहुत ज्यादा सम्मान और पूजा करते हैं। गाय का दूध पूजा और कथा के दौरान भगवान को समर्पित की जाती है। गाय का दूध त्योहारों और पूजा के दौरान देवी और देवता के प्रतिमा का अभिषेक करने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है।

गाय का दूध हमारे लिए बहुत फायदेमंद है और इसे समाज में उच्च दर्जा दिया गया है। गाय 12 महीने के बाद एक छोटे बछड़े को जन्म देती है। गाय अपने बछड़े को चलना और दौड़ना नहीं सिखाती वह स्वयं ही जन्म के उपरांत चलने व दौड़ने लगती है। बछड़ा कुछ दिनों या महीनों के लिए उसका दूध पीता है और फिर गाय की तरह खाना खाना शुरू कर देता है। गाय सभी हिंदुओं के लिए एक बहुत ही पवित्र जानवर है। यह चार पैर, एक पूंछ, दो कान, दो आंख, एक नाक, एक मुंह, एक सिर और विशाल पीठ वाला एक घरेलू जानवर है।


 

गाय पर निबंध 4 (250 शब्द)

भारत में हिन्दू धर्म के लोग गाय को "गाय हमारी माता है" के रूप में पूजते है। यह बहोत ही उपयोगी घरेलू जानवर है। यह हमें दूध देती है जो की बहुत फायदेमंद और पौष्टिक होता है| यह दुनिया के लगभग सभी देशों में पाया जाता है। गाय का दूध परिवार के सभी सदस्यों के लिए बहुत ही फायदेमंद, पौष्टिक और उपयोगी है। हम अपने स्वास्थ्य को अच्छा रखने के लिए रोज गाय का दूध पीते हैं। डॉक्टर मरीजों को हमेशा गाय का दूध पीने की सलाह देते हैं| गाय का दूध नवजात शिशुओं के लिए अच्छा व आसानी से पांच जाने वाला भोजन है| यह स्वभाव से बहुत ही सीधा जानवर होता है। इसका शरीर बड़ा, चार पैर, एक लंबी पूंछ, दो सींग, दो कान, एक मुंह, एक बड़ी नाक और एक सिर होता है।

गाय भिन्न भिन्न आकार व रंग रूप के होते हैं| यह भोजन, अनाज, हरी घास, चारा और अन्य खाद्य चीजें खाती है। गाय खेतों में हरी घास खाना ज्यादा पसंद करती है। दुनिया भर में गाय का दूध खाने की कई चीजो को बनाने में प्रयोग की जाती है। हम गाय की दूध से दही, मट्ठा, पनीर, घी, मक्खन, मिठाई, खोया, पनीर और कई सारी चीज़ें बना सकते हैं। गाय का दूध आसानी से पच जाता है और पाचन विकार के रोगियों के लिए एक उपयोगी चीज है। गाय का दूध हमें मजबूत और स्वस्थ बनाता है। यह हमें संक्रमण और विभिन्न प्रकार की बीमारियों से बचाता है| यह हमारी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। यदि हम इसका सेवन नियमित रूप से करे तो हमारा दिमाग तेज और याददास्त मजबूत होगी|

गाय पर निबंध 5 (300 शब्द)

गाय हमारी माता के समान होती है और दिन में दो बार दूध देती है। यह पौष्टिक दूध के माध्यम से हमारा ख्याल रखती है और हमारा पोषण करती है। यह दुनिया के लगभग हर क्षेत्रों में पाया जाता है। ताजा और स्वस्थ दूध प्राप्त करने के लिए लोग इसे घर पर पालते है। यह महत्वपूर्ण और उपयोगी घरेलू जानवर है। गाय एक पालतू जानवर है और इसकी सभी चीजे पवित्र और उपयोगी मानी जाती है जैसे की दूध, घी, दही, गोबर और गोमूत्र। इसकी गोबर पौधों, मनुष्य और अन्य प्रयोजनों के लिए बहुत उपयोगी होती है। यह एक पवित्र वस्तु के रूप में माना जाता है और हिंदू धर्म में पूजा और कथा के दौरान प्रयोग किया जाता है। गाय आम तौर पर टहलते हुए घास खाना पसंद करती है नकी एक स्थान पर खड़े रह कर। गोमूत्र कई बीमारियों से छुटकारा पाने के लिए बहुत उपयोगी वस्तु है।

गाय हरी घास, अनाज, खाद्य पदार्थ, चारा और अन्य चीजें खाती है। पहले वह भोजन को अच्छी तरह से चबाती है फिर उसे निगलती है। इसकी बड़ी सिंग इसकी और इसके बच्चो की रक्षा करती है। कभी कभी यह अपने बचाव के लिए अपने सिंग से लोगो पर हमला कर देती है। अपने गर्भ में १२ महीने तक रखने के बाद वह अपने बछड़े को जन्म देती है। गाय, एक बैल या एक गाय को जन्म देती है अगर वह बैल हुआ तो खेती में काम आता है और अगर गाय हुयी तो दूध देने के काम आती है। लोग बैल का उपयोग खेत जोतने व बैलगाड़ियाँ चलाने में करते है। बैल किसानों के लिए एक पूंजी होती है क्योंकि वह खेती के कार्यो में बहोत उपयोगी होती है|

हम हमेशा गाय का सम्मान करते हैं और उसके प्रति बहुत दयालु होते है| गाय हत्या हिन्दू धर्म में बहुत बड़ा पाप माना जाता है। कई देशों में गाय कत्लेआम पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। भारतीय लोग गाय की पूजा करते हैं और इसके उत्पादों का उपयोग कई पवित्र अवसरों पर करते है। गाय का गोबर मौसमी फसलों के बेहतर विकास के लिए इसकी प्रजनन क्षमता के स्तर को बढ़ाने के लिए एक बहुत अच्छा उर्वरक के रूप में प्रयोग किया जाता है। मृत्यु के बाद गाय का चमड़ा जूते, बैग, पर्स आदि बनाने के लिए और हड्डियां कंघी, बटन, चाकू का मुठिया जैसे चीजों को बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है|


 

गाय पर निबंध 6 (400 शब्द)

गाय एक बहुत ही उपयोगी पालतू जानवर है। यह एक सफल घरेलू जानवर है और कई उद्देश्यों के लिए घर पर लोगों द्वारा रखी जाती है। यह बड़ी शरीर, दो सींग, दो आंख, दो कान, एक नाक, एक मुंह, एक सिर, एक बड़ी पीठ और पेट वाली महिला जानवर है। यह ज्यादा खाना खाती है। यह हमें स्वस्थ और मजबूत बनाने के लिए दूध देती है। दूध हमारी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है और संक्रमण व अन्य रोगों से बचाता है। यह एक पवित्र पशु है और भारत में एक देवी की तरह पूजा जाता है। हिंदू समाज ने गाय को माँ का दर्जा दिया है और ''गऊ माता'' कह कर बुलाते है|

यह कई प्रयोजनों के लिए उपयोगी दूध देने वाली जानवर है। हिंदू धर्म में यह माना जाता है की गऊ दान सबसे बड़ा दान है। गाय हिंदुओं के लिए एक पवित्र पशु है। गाय अपने जीवन काल में हमें बहोत लाभ देता है और यहां तक की मरने के बाद भी बहोत उपयोगी है। जीवित रहने पर ये दूध, बछड़ा, बैल, गोबर, गोमूत्र देती है और मृत्यु के बाद इसके चमड़े और हड्डियों को काम में लाया जाता है। अतः हम कह सकते है की यह हमारे लिए पूरी तरह से उपयोगी होती हैं| हम इसके दूध से कई उत्पाद बना सकते है जैसे की घी, क्रीम, मक्खन, दही, मट्ठा, मिठाई इत्यादि और इसके मूत्र व गोबर प्राकृतिक उर्वरक के रूप में किसानों के पेड़, पौधों और फसलो के लिए अत्यधिक उपयोगी है|

यह हरी घास, खाद्य पदार्थ, अनाज और अन्य खाद्य चीजें खाती है। गाय के पास दो मजबूत सिंग होता है जो इसकी और इसके बछड़े की रक्षा के लिए उपयोगी होती है, अगर कोई इसे या इसके बछड़े को परेशान करता है तो वो इसी सिंग से उसपर हमला करके खुद को और अपने बछड़े को बचाती है| इसके पूछ पे लम्बे लम्बे बाल होते है जो की यह मक्खी व अन्य कीड़ो को अपने ऊपर से भगाने में प्रयोग करती है| गाय अलग अलग क्षेत्र में अलग अलग रंग और आकार के होते है। कुछ गाय काले कुछ सफ़ेद तो कुछ मिश्रित रंग के होते है| यह कई मायनों में वर्षों से मानव जीवन में मदद की है। गाय कई वर्षो से हमारे जीवन को स्वस्थ बनाने का कारण बनी है। मानव जीवन को पोषित करने और गाय की उत्पत्ति के पीछे एक महान इतिहास छुपा है| हम सब हमारे जीवन में इसके महत्व और आवश्यकता को जानते हैं और हमेशा हमें इसका सम्मान करना चाहिए। हमें गायों को कभी चोट नहीं पहुचनी चाहिए और उन्हें समय पर उचित भोजन और पानी देना चाहिए।


Previous Story

बाघ पर निबंध

Next Story

हॉकी पर निबंध

   [Show all top banners]
Login in to Rate this Post:     0       ?        
 

1984 ERG is founded in Cambridge, MA. 1988 Company wins 2 significant contracts to provide environmental, communications, and economics support to the U.S. Environmental Protection Agency. 1989 IT/software applications group is formed. 1990 Growth to 60 employees. 1992 Environmental and occupational health services group is formed. ERG moves to new corporate headquarters in Lexington, MA. 1994 Largest single award contract awarded in company's history to date ($3+ million/year). 1995 Growth to 100 employees. 1996 Company acquires divisions of Radian International; opens ERG Engineering Division in Chantilly, VA, and RTP, NC, including a laboratory specializing in environmental measurements. Growth to 250 employees. 1997 First corporate outsourcing partnership initiated with Trammell Crow Company to provide sales and marketing support to regional, national, and international offices. 1998 ERG Engineering Division wins first U.S. Navy contract ($1.9 million/year). 1999 Corporate outsourcing services expand to other clients, including American Express, Baxter Healthcare, and Harvard University. 2000 Austin, TX, office opens, specializing in projects related to automotive engineering and emissions. Boston office opens to support communications projects. Chicago office opens to support company development and marketing efforts. 2001 Data center in Nashua, NH, opens. Sacramento, CA, office opens, specializing in environmental air quality projects. 2002 Harrisburg, PA, office opens, specializing in natural resources management projects; Atlanta, GA, office opens to better serve our public health clients. Largest contract awarded in company’s history (10 years/$39.4 million). 2003 Growth to 350 professionals. ERG celebrates 19 years of profitability.
 
Login in to Rate this Post:     0       ?        
 

This is a true essay written by a Nepali candidate at the Lok Seva Exams (govt. employment exams). The candidate has written an essay on the Nepali cow: Nepali Cow : HE IS THE COW. "The cow is a successful animal. Also he is 4 footed, And because he is female, he give milks, [ but will do so when he is got child.] He is same like-God, sacred to Hindus and useful to man. But he has got four legs together. Two are forward and two are afterwards. His whole body can be utilized for use. More so the milk. Milk comes from 4 taps attached to his basement. [ horses don’t have any such attachment What can it do? Various ghee, butter, cream, curd, why and the condensed milk and so forth. Also he is useful to cobbler, waterman and mankind generally. His motion is slow only because he is of lazy species. Also his other motion.. [gober] is much useful to trees, plants as well as for making flat cakes [like Pizza] , in hand , and drying in the sun. Cow is the only animal that extricates his feeding after eating. Then afterwards she chew with his teeth whom are situated in the inside of the mouth. He is incessantly in the meadows in the grass. His only attacking and defending organ is the horns, specially so when he is got child. This is done by knowing his head whereby he causes the weapons to be paralleled to the ground of the earth and instantly proceed with great velocity forwards. He has got tails also, situated in the backyard, but not like similar animals. It has hairs on the other end of the other side. This is done to frighten away the flies which alight on his cohesive body hereupon he gives hit with it. The palms of his feet are soft unto the touch. So the grasses head is not crushed. At night time have poses by looking down on the ground and he shouts . His eyes and nose are like his other relatives. This is the cow....... We are informed that the candidate passed the exam. and is now a govt. officer, is Kathmandu in somewhere,. sorry...... somewhere in Kathmandu.
 
Login in to Rate this Post:     0       ?        
 

and the writer forgets to write "and when the cows is die, man in america pack cow in plastic and sell. a dead cow is calls beef and is very tasty. but i doesnt eat beefs. i am an hindu. my friend eat beef. i eat bhaisi ko momo, bhaisi is also a fat cow. but it is black." Suraj.
 
Login in to Rate this Post:     0       ?        
 

there is nothing wrong with that essay. i like it. besides, the people who can write relatively better essays on cows and other animals are alllll in the US, europe and elsewhere.
 
Login in to Rate this Post:     0       ?        
 

this is a true line tha tI am writing down. Long time ago when I was in thrid grade one of my classmates wrote this line in our hindi subject. The teacher was very impressed by his raym and she just lugh at these line and told I will do the paap by giving you some numbers ( marks) in this eassy. गाए हमारी माता है, हमको कुछ नही आता है । बैल हमारा बाप है, कम नम्बर देना पाप है ।
 
Login in to Rate this Post:     0       ?        
 
 


Please Log in! to be able to reply! If you don't have a login, please register here.

YOU CAN ALSO



IN ORDER TO POST!




Recommended Popular ThreadsControvertial Threads
very Imp for Nepalese who are on TPS...But help from every nepalese would be great.great..Please Nepali daju ra didi and uncle auntie haru help garnu hola
Best Tv Series !!!
अम्रिकामा डाक्टर कसोरी बन्ने ??
Nyc ka nepali
New york uber driver
lau maryo Gotra eutai paryo. K garne hola?
pros/cons of owning BMW or other luxury cars
पसल या गास स्टेशन खोल्ने चाहना थीयॊ
मध्यरात मा उडेको जहाज
Things to Bring from Nepal - Please Suggest
Visitor Parents, Medical Bill- who’s responsible ?
Hot nepali Tshirts
ICE is reopening old files of Immigrants who have criminal records in the past
Life just sucks here...
Gemstones in Nepal
IT ले सम्बन्ध नै धराप मा पार्ला जस्तो भो
IT छोड भाई स्टोरे खोल
*Free* online JAVA(Core&Advance) Training & placement ( Registration) Weekend
श्री देबीको मृत्यु
सेक्सी कविता
अर्चना पनेरुले बिहे पश्चात एस्तो अस्लिल भिडियो सार्वजनिक गरे
NOTE: The opinions here represent the opinions of the individual posters, and not of Sajha.com. It is not possible for sajha.com to monitor all the postings, since sajha.com merely seeks to provide a cyber location for discussing ideas and concerns related to Nepal and the Nepalis. Please send an email to admin@sajha.com using a valid email address if you want any posting to be considered for deletion. Your request will be handled on a one to one basis. Sajha.com is a service please don't abuse it. - Thanks.

Like us in Facebook!

Leave a Comment

(0 Comments)

Your email address will not be published. Required fields are marked *